Read, Record and ShareClose
  • खुले आसमान में जमी से बात न करो..
    ज़ी लो ज़िंदगी ख़ुशी का आस न करो..
    हर त्यौहार में कम से कम हमे न भूला करो..
    फ़ोन से न सही मैसेज से ही संक्राति विश किया करो !!
  • Click on Mic to record