Read, Record and ShareClose
  • तुझे भूलने की कोशिशें कभी कामयाब न हो सकें,
    तेरी याद शाख-ऐ-गुलाब है, जो हवा चली तो महक गयी।
  • Click on Mic to record