Read, Record and ShareClose
  • दर्द कि दूनियाँ में जीने के मोहताज थे
    क्यूँ की दर्द निवारक दवा कोई हकीम के पास नहीं मिली
  • Click on Mic to record