275 Love Shayari

आप और आपकी हर बात मेरे लिए ख़ास है,
यही शायद प्यार का पहला एहसास है।


नज़रे करम मुझ पर इतना न कर,
की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं,
मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,
मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।


तुम पूछ लेना सुबह से, न यकीन हो तो शाम से
ये दिल धड़कता है तेरे ही नाम से।


वो समझे या ना समझे
मेरे जज़्बात को,
लेकिन मुझे तो मानना
पड़ेगा उसकी हर बात को,
हम तो चले जायेंगे इस
दुनिया से लेकिन, वो
आँसू बहाएंगे बैठ
कर हर रात को।


तुमने मुझे भुला कर किसी
और का हाथ तो थाम लिया,
पर एक बात हमेशा याद रखना
हर सख्श मोहब्बत नही करता है।


जिंदगी में कभी बिछड़ना पड़े
तो मेरी सांसे भी ले जाना,
क्योंकि तुम्हारे बिना ये
मेरे किसी काम की नही।


तुझे कुछ मैं भी दुंगा तेरे दिए धोखे के बाद,
एक दिन लेकर आऊंगा
तेरे घर अपनी शादी का कार्ड।


करीब रहूं या दूर जाऊँ मैं,
बस मेरा तो यही आलम है,
तुझे हर वक्त चाहूं मैं।


आपने रात के अँधेरे में,
मेरे हाथ की हथेली पर,
लिखा था अपनी ऊँगली
से की मुझे प्यार है तुमसे,
न जाने वो कैसी सिहाई थी,
जो मिटती भी नही और
दिखती भी नही।


सफर-ऐ-मोहब्बत
अब खत्म ही समझिये जनाब,
अब उनके पास से
जुदाई की महक आने लगी है।


उम्र मत पूंछो उनकी जो
इश्क में खोये रहते है,
वो हर वक्त जवां रहते हैं,
जो महबूब की आँखों में खोये रहते हैं।


लोग कहते हैं तुम्हारी आँखे
इतनी खूबसूरत क्यों है,
मैंने खा तेज़ बारिश के बाद
मौसम अक्सर खूबसूरत हो जाता है।


मोहब्बत किसी ऐसे की तलाश नही
करती जिसके साथ रहा जाये,
मोहब्बत तो ऐसे सख्स की तलाश
करती है जिसके बगैर रहा न जाये।


तेरे दिए खत रात भर यूँ पड़ता हूँ,
तेरे दिए खत रात भर यूँ पड़ता हूँ,
जैसे कल इम्तेहान हो मेरा।


तुम ही से डरते हैं,
तुम्ही पे मरते हैं,
तुम ही जिंदगी ही हमारी,
तुम्ही से हम सबसे
ज्यादा प्यार करते हैं।


हमारी नाराज़गी का एहसास
भी उन्ही को होता है, जो हमे
सबसे अलग चाहते हैं।


ये वो दिल था जो कभी काँटों से
भी मोहब्बत कर लिया करता था,
लेकिन तेरे बदल जाने के
बाद काँटों से भी डर लगता है।


अपनी इन खामोश आँखों में
और कितनी वफ़ा रखूँ,
तुम ही को चाहूँ और
तुम्ही से फासला रखूँ।


अजनबी की तरह मिले
और उलफ़त हो गई,
अजनबी दोस्त की तरह मिले
और दोस्ती हो गई,
तुमसे तो था सच्ची
दोस्ती का इरादा,
लेकिन तुमसे सच्ची
मोहब्बत हो गई।


हमे तो रहा तकने से मतलब है,
मसला तुम्हारा है कही से भी आ जाओ।


अपने होठो को तुम किसी
पर्दे में छुपा लिया करो,
हम गुस्ताख़ लोग
नज़रो से चूम लिया करते हैं।


दिल भी तेरा, हम भी तेरे,
बस एक आस ज़रूरी लगती है,
अब बिन तेरे मेरे दिल
को हर साँस अधूरी लगती है।


हम मौत को भी जीना सिखा देंगे,
बुझी हुई सम्मा को भी जला देंगे,
कसम तेरे प्यार की है,
हम जब जायंगे इस दुनिया से,
हम जाते हुए तुझे रुला देंगे।


इश्क के दरिया में डूब के पार उतर जाएंगे,
एक दूजे की बाहों में आकर सवर जाएंगे,
बसाये रखेंगे सदा एक दूजे को इस दिल में,
जो कभी बिछड़े तो हम दोनों ही मर जाएंगे।


जाने क्या मासूमियत है तेरे चहरे में,
आमने सामने ज्यादा छुप छुप के देखने में मज़ा आता है।


मुझे किसी से मोहब्बत
नही सिवा तेरे,
मुझे किसी की ज़रूरत
नही सिबा तेरे,
मेरी नज़रो को जिसकी
थी तलाश बरसो से,
और किसी सूरत में
वो बात नही सिबा तेरे,
मेरे दिल और मेरी
जिंदगी से जो खेल सके,
और किसी की ये
मज़ाल नही सिबा तेरे।


कैसे लफ़्ज़ों में बया करूं
खूबसूरती को तुम्हारी,
नूर का झरना भी तुम हो,
और इश्क का दरिया बजी तुम हो।


तेरी आँखों की कशिश
भी खिंचती है इस कदर,
अब ये दिल बहलता
नही बहकने की ज़िद करता है।


तेरी हर साँस के साथ चलती है
मेरी ये धड़कन, और तुम पूंछते हो,
की मुझे याद किया या नही।


किसी भी Relationship में रोना नही चाहिये,
क्योंकि जिसके लिए तुम रो रहे हो
वो तुम्हारे आंसुओ के काबिल नही,
और जो तुम्हारे काबिल है
वो तुम्हे कभी रोने ही नही देगा।


तेरे दिए धोखे को राज़ रखते है,
तेरे दिए तोफे को दिल के पास रखते हैं,
न जाने क्यों ऐसा होता है बिगड़े हालातो में भी,
तेरे फ़ोन का इंतज़ार करते हैं।


हर रात एक धुन गुनगुनाती है,
हर फूल से महक आती है,
हमारा ख्याल आपको आये या न आए,
लेकिन हमे तो बस आपकी ही याद आती है।


उनको गुज़रते देखा तो
हमने आँखे बन्द कर लीं,
पायल की झनकार क्या
उठी आँखों ने तो बगाबत कर ली।


दिल में न हो जुर्रत तो
मोहब्बत नही मिलती, खैरात में
इतनी बड़ी दौलत नही मिलती।


अगर आपको कोई रोकता है,
टोकता है, आपका वक्त मांगता है,
तो आप बहुत किस्मत बाले हैं,
क्योंकि Care करने बाले
किस्मत बालो को ही मिलते हैं,
उनकी कदर कीजिये क्योंकि
ये एक बार जो गम हो
जाये तो जिंदगी भर नही मिलते।


किसी न किसी बहाने से आपको याद करते हैं,
अपनी रूह में आपको हम महसूस करते हैं,
इतनी बार तो आप सांस भी नही लेते होंगे,
जितनी बार हम आपको याद करते हैं।


मुझे यकीन है की मै
सिर्फ इसलिये जन्मा हूँ,
की मैं तुम्हें प्यार कर सकूँ,
और तुम सिर्फ इसलिये
की मैं तुम्हें अपना बना सकूँ।


किसी के लिये किसी की अहमयित खास होती है,
और एक दिल की चाबी दूसरे के पास होती है।


मिले जो हमे आप कुछ
खास मिला हमे,
तन्हा सी जिंदगी में
खूबसूरत साथ मिला हमे,
जिस प्यार की होती है हर
किसी को जिंदगी में चाहत,
बस ऐसा ही प्यार
का एहसास मिला हमे।


दूरियां बहुत हैं मगर पास
रहकर ही कोई खास नही होता,
और तुम तो मेरे दिल के इतने पास हो
की मुझे दूरियों का एहसास नही होता।


अब हम भी प्यार के मीठे गीत गाने लगे है,
जब से वो हमारे सपनो में आने लगे हैं।


हाथ में नमक लिए ऐ-सितमगर
सोचते क्या हो,
हजारों जख्म है दिल पर
मेरे जहाँ चाहो वहाँ छिड़क दो।


उस चाय के प्याले की भी क्या बात है,
जो सुबह होते ही तेरे होठो को चूम लेता है।


तुम आओ या न आओ मेरी जिंदगी में,
लेकिन मेरा प्यार तुम्हारे
लिया हमेशा था, हमेशा है,
और हमेशा ही रहेगा।


मेरे बजूद में काश तू उतर जाए,
मैं देखूं आईना और तू ही तू नज़र आये,
तू हो सामने और ये वक्त ठहर जाये,
और ये ज़िन्दगी तुझे देखते हुए ही गुजर जाये।


नसीब बालो को मिलते है
फ़िक्र करने बाले, मेरा नसीब
देखो मुझे तुम मिल गए।


परवाह कर उसकी जो तेरी परवाह करे,
जिंदगी में कभी न तन्हा करे,
रूह बन कर उतर जाना उसकी रूह में,
जो जान से भी ज्यादा तुझसे वफ़ा करे।


तुम आके मेरे दिल में
घर बनाये बैठे हो,
सपनो में भी तुम अपना
डेरा जमाये बैठे हो,
ये न पूछना की हम
तुम्हे कितना चाहते हैं,
बस ये जान लो की तुम
हर अदा से मेरे दिल छुए बैठे हो।


ये कातिलाना मौसम,
उफ़ ये ज़ालिम हवाएं,
और ये बारिश का समां,
काश आज कोई जादू हो जाये,
और दीदार-ऐ-महबूब हो जाये।


ये ज़िद्द है मेरी की मैं तुम्हे जीत लूँ,
मगर एक जिद्द ये भी है
की तुझ पर सब कुछ हार जाऊँ।


मेरे दिल में आपकी तस्वीर ऐसे फस गई है,
जैसे छोटे से दरबाजे में कोई भैंस फस गई है।


मोहब्बत चहरे से नही
दिल में होनी चाहिये,
क्योंकि खूबसूरत चहरे
में हमेशा घमण्ड होता हैं।


रात का अँधेरा कुछ कहना चाहता है,
क्यों चाँद चाँदनी के साथ रहना चाहता है,
हम तो तन्हा ही बहुत खुश थे मगर,
क्यों ये दिल अब किसी
के साथ रहना चाहता है।


नींद भी नीलाम हो जाती है,
दिलो की महफ़िल में जनाब,
किसी को भूल कर सो
जाना इतना आसान नही होता है।


आकर मेरे मैखाने में मेरा जाम बदल देना यारा,
अगर कोई मुझसा तुम्हे चाहे
तो मेरा नाम बदल देना यारा।


जो जितना दूर होता है
वो दिल के पास होता है,
मुश्किल से भी जिसकी
एक झलक देखने को न मिले,
वो ही सबसे खास होता है,
और वो हैं आप।


दिल की हसरत जुवां पर आने लगी,
तूने देखो तो जिंदगी मुस्कुराने लगी,
ये इश्क की इम्तेहा थी
या थी दीवानगी मेरी,
हर सूरत में सूरत तेरी नज़र आने लगी।


फना होकर मोहब्बत करूँ,
या बेपनाह मोहब्बत करूँ,
बता तुझे कैसी मोहब्बत पसन्द है,
मैं वैसे ही मोहब्बत करूँ।


दिल डूब कर रह जाता है तेरे इन आंखों के प्यालों में,
ये दिल उलझ कर रह जाता है तेरे मासूम सबालों में,
तुझसे बढ़ कर न कोई है और न कोई होगा,
तू सबसे हसीन है सब हुस्न बालो में।


मेरे दिल को जुवां और
आँखों को सपने मिल गये,
आशिकी में तेरी मेरी
जिंदगी को मायने मिल गये।


उनका इतना सा किरदार है मेरे जीने में,
की उनका धड़कता है मेरे सीने में।


तमन्ना है मेरे मन की हर
पल साथ तुम्हारा हो,
जितनी भी सांसे चले मेरी
हर साँस पर नाम तुम्हारा हो।


अगर खोजूँ तो कोई मुझे मिल ही जाएगा,
लेकिन तुम्हारी तरह मुझे कौन चाहेगा।


सारी दुनिया के रूठ जाने परवाह नही मुझे,
बस एक तेरा खामोश रहना
बहुत तकलीफ देता है मुझे।


मोहब्बत चाहे कितनी भी सच्ची करलो,
लेकिन लोग सच्ची मोहब्बत
नही अच्छी शक्ल देखते हैं।


एक बार उसके रोने पर,
उसके होठो को क्या चूम लिया,
अब तो हर बार रोने का बहाना बनाती है।


जो कुछ भी मिला है
जिंदगी में मैं उसी में खुश हूँ,
तेरे लिए खुदा से तकरार नही करती हूँ,
लेकिन कुछ तो बात है
तेरी फितरत में ऐ ज़ालिम,
वरना तुझे चाहने की
खता बार बार क्यों करती हूँ।


कल बड़ा शोर था मयखाने में,
बहस छिड़ी थी की जाम
कोनसा बेहतरीन है,
हमने तेरे होठो का ज़िक्र
किया यो बहस खत्म हुई।


अगर भूले से हमारी याद आती हो,
और तन बदन में एक
शहरन सी दौड़ जाती हो,
तो मेरे सनम मेरे पास चले आना,
अगर सुनी सुनी राते
तुम्हे बहुत सताती हों।


इतिहास गबहा है असल-ऐ-मोहब्बत के
अल्फ़ाज़ शब्दो से नही,
एहसासों से निकला करते हैं।


मेरे दिल पर उसके प्यार का उधार रहता है,
मेरी आंखों में उसके लिये प्यार बेशूमार रहता है,
उसके बिना दिन का चैन गया और रातों की नींद गई,
बस धड़कता इस दिल में वो दिलदार रहता है।


कभी फुर्सत मिले तो
हमे ज़रूर बताना,
की वो कोनसी मोहब्बत
थी जो हम तुम्हे दे न सके।


कभी कभी अपने सनम से ये दिल रुठ जाता है,
फिर उसकी याद में ये दिल टूट जाता है,
गलत फेमियों को जल्दी मिटाना ज़रूरी है,
वरना ये रिश्ता हमेशा के लिये टूट जाता है।


तुम्हारे इश्क से बना हूँ मैं,
तुम्हारे इश्क से बना हूँ मैं,
पहले जिन्दा था,
पर अब जी रहा हूँ मैं।


हाल तो पूछ लू तेरा,
पर डरता हूँ जब जब सुनता हूँ
आवाज़ तेरी मोहब्बत सी हो जाती है।


बिना तेरे मेरी हर ख़ुशी अधूरी है,
सोच तू मेरे लिये कितनी ज़रूरी है।


कितना चाहता हूँ तुझे मुझे बताना नही आता,
बस इतना जानता हूँ मुझे तेरे बिन रहना नही आता।


दिल में जो कुछ होता है वो कहा नही जाता,
अब दर्द-ए-जुदाई सहा नही जाता,
हो सके तो लौट आओ किसी बहाने से,
अब मुझसे तुम्हारे बिन रहा नही जाता।


मेरी इस दुनिया की ख़ुशी तुमसे है,
मेरी इन आँखों की रौशनी तुमसे है,
अब इससे ज़्यादा मैं तुमसे क्या कहूँ,
मेरी हर साँस और मेरी जिंदगी तुमसे है।


एक आवाज़ है जो मेरे
कानो में हमेशा गूंजती रहती है,
वो एक चहरा है जो
हमेशा मेरी आँखों के
सामने आ जाता है,
पर मैं हमेशा उसे
बताने से डरता हूँ,
की ये जो आवाज़ है
ये जो चहरा है वो
किसी और का नही तुम्हारा है।


वो मोहब्बत ही क्या जो दिल
की बातें लफ़्ज़ों में बयां की जाए,
आशिकी का मज़ा तो जब
आये जब ख़ामोशी से मेरे
दिल की बात तेरे दिल में उतर जाए।


तुम्हारे ही प्यार में ये मेरा जीवन चहकता है,
तुम्हारे बिना ये मेरा पागल मन बहकता है,
इस मेरे दिल की वेबफाई तो देखो,
मेरा है पर तुम्हारे लिये धड़कता है।


दिल में मोहब्बत हो तो दिलबर सुहाना लगता है,
हो हाथो में हाठ हो तो सफर सुहाना लगता है,
फुर्सत के कुछ पल चुरा कर जिंदगी से,
जब वो घर में रहते हैं तो घर सुहाना लगता है।


तेरे सिवा किसी और की चाहत नहीं
तेरे सिवा किसी और से मोहब्बत नहीं


लो अब मैंने तुम को चुन लिया है
उम्र भर के लिए, मैं कोई बेईमान
नही जो रोज़ रोज़ ईमान बदलूँ।


मैं आज भी तुमसे उतनी
ही मोहब्बत करता हूँ
जितनी पहले करता था,
इसलिये नही की मुझे
कोई और नही मिली,
बल्कि इसलिये क्योंकि
मुझे तुमसे मोहब्बत करने
से कभी फुर्सत ही नही मिली।


क्यों तुझको देखना चाहती हैं ये मेरी आँखे,
क्यों खामोश करती है बस तेरी बातें,
क्यों तुझे मैं इतना चाहने लगी हूँ मैं,
की तारे गिन गिन के कटती हैं अब मेरी राते।


उसने पूंछ की कितना कस के
गले लगा सकते हो अपनी मोहब्बत को,
हमने कहा की इतना की
पसीना भी रास्ता भूल जाए।


तेरे ही प्यार से मेरा ये दिल धड़कता है,
तेरे ही नाम से मेरा ये दिल बहकता है,
मेरे इस दिल की वेबफाई को तो देखो,
मेरा है पर तेरे लिये ही धड़कता है।


ऐ हवाओं सुनो ज़रा
पैगामे मोहब्बत न लाओ,
अगर मिज़ाज़ इतना आशिकाना है
तो मेरे महबूब को ही ले आओ।


लो मैंने ये अपना दिल तुम्हारे नाम कर दिया,
अब चाहे इसे अपने दिल से जोड़ लो
या इसे तोड़ दो, तुम्हारी मर्ज़ी।


रूठ जाओ कितना भी मना लेंगे,
दूर जाओ कितना भी बुला लेंगे,
दिल आखिर दिल है मेरा
कोई समंदर की रेत तो नही,
जो लिख कर नाम मिटा देंगे।


हँसाए तो हँस लेते हैं,
दिल में हो दर्द तो रो लेते हैं,
नींद तो वैसे भी कम आती हैं,
तुम आओगी सपने
में ये सोच कर सो लेते हैं।


तेरे प्यार में एक नशा है,
इसलिये ही ये दुनिया हमसे खफ़ा हैं,
मत करना हमसे इतनी मोहब्बत,
की तेरा दिल ही तुझसे पूंछे
की तेरी धड़कन कहाँ है।


बिन तेरे मेरी हर ख़ुशी अधूरी है,
फिर सोच मेरे लिए तू कितनी ज़रूरी है।


बस तुम ही तुम हो अब तो मेरी निगाहों में,
हमने तो निगाहें बिछा रखी हैं तेरी राहों में,
जिंदगी भर की बेकरारी को करार आ जाये,
अगर समेत लूँ कभी तुझे अपनी बाँहों में।


चाहता हूँ उसका नाम लिख दूँ,
अपनी हर शायरी के साथ,
लेकिन फिर सोचता हूँ,
बहुत भोली है मेरी जान,
कहीं बदनाम न हो जाए।


नहीं बस्ती किसी और की सूरत अब इन आँखों में
काश की हमने तुझे इतने गौर से न देखा होता


मोहब्बत में जुदाई भी होती है,
मोहब्बत में तन्हाई भी जोती है,
मोहब्बत में बेवफाई भी होती है,
तू ज़रा थाम कर तो देख हाथ मेरा,
तब तू जानेगी मोहब्बत में सच्चाई भी होती है।


सोचो उस पल दिल कितना मजबूर होता है,
जब कोई किसी की यादो में चूर होता है,
प्यार क्या है पता तब चलता है,
जब कोई किसी की नज़रो से दूर होता है।


गिले शिकवे मेरे दिल से न लगा लेना,
जो कभी रुठू तो मुझे मना लेना,
जिंदगी का क्या पता कल हो न हो,
लेकिन जब भी मिलूँ, मुझे गले से लगा लेना।


किसी को सिर्फ पा लेना मोहब्बत नही होती है,
बल्कि किसी के दिल में जगह बना लेना मोहब्बत होती है।


मांग लुंगी तुझे अब तकदीर से,
क्योंकि अब मेरा मन नही भरता है तेरी तस्वीर से।


हमने तेरी तस्वीर में वो रंग भरा है,
की लोग देखेंगे तुझे और पूँछएंगे मुझे।


तुझको लेकर मेरा ख्याल नही बदलेगा,
दिन बदलेंगे,साल बदलेगा,
लेकिन दिल का हाल नही बदलेगा।


ज़िन्दगीं में किसी का साथ काफ़ी है,
हाथों में किसी का हाथ काफ़ी है,
दूर हो या पास फ़र्क नहीं पड़ता
प्यार का तो बस एहसास काफ़ी है


वहाँ मोहब्बत में पन्हा मिले भी तो कैसे, जहाँ मोहब्बत वेपन्हा हो।


वो प्यार जो हकीकत में प्यार होता है,
ज़िन्दगी में सिर्फ एक बार होता है,
निगाहों के मिलते मिलते दिल मिल जाये,
ऐसा इत्तेफाक सिर्फ एक बार होता है।


तेरा ख्याल भी है क्या गजब,
जो न आये तो आफत,
और जो आ जाए तो कयामत।


ज़िन्दगी यूँ ही बहुत कम है, मोहब्बत के लिए, फिर एक दूसरे से रूठकर वक़्त गँवाने की जरूरत क्या है।


नया यह दौर है लेकिन,वोही किस्से पुराने हैं,
मोहब्बत के ज़माने थे, मोहब्बत के ज़माने हैं,
मेरे गीतों में जो तुमने, सुने यादों के जो किस्से हैं,
मोहब्बत के तराने तो, अभी तुमको सुनाने हैं।


तेरी मोहब्बत मैंने एक बात सीखी है,
तेरे साथ के बगैर ये दुनिया फीकी है।


ये न सोचा कभी हमने कि हमने दोस्तों’ से लिया क्या है हमने तो खुद से पूछा सदा कि हमने उनको दिया क्या है


अपने आगोश में एक रोज छुपा ले मुझको,
गम ए दुनिया से आज बचा लो मुझको,
उनको दी है इशारों में इजाज़त मैंने,
मांगने से न मिलूं तो चुरा लो मुझको।


कुर्बान हो जाऊँ, उस दर्द पर जिसका इलाज सिर्फ तुम हो।


तुम लौटकर आ जाना जब भी तुम्हारा दिल करे,
सौ बार भी लौटोगे तो हमें अपना ही पाओगे।


नजर से दूर रहकर भी
किसी की सोच में रहना,
किसी के पास रहने का
तरीका हो तो ऐसा हो।


तुम सामने आये तो अजब तमाशा हुआ,
हर शिकायत ने जैसे खुद ख़ुशी करली।


दिल में प्यार का आगाज हुआ करता है,
बातें करने का अंदाज हुआ करता है,
जब तक दिल को ठोकर नहीं लगती,
सबको अपने प्यार पर नाज हुआ करता है!


मैं देखू तो सही ये दुनियां तुझे कैसे सताती है,
कोई दिन के लिए तुम अपनी निगेह्वानी मुझे दे दो।


वो एक पल जिसे तुम सपना कहते हो,
तुम्हें पाकर मुझे ज़िंदगी सा लगता है।


ख्वाब झूठे ही सही, मगर तुमसे मुलाकात तो करवाते हैं।


ना जाने इतनी मुहब्बत कहां से आई है उसके लिये,
कि मेरा दिल भी उसकी खातिर मुझसे रूठ जाता है


चेहरे पर हँसी छा जाती है,
आँखों में सुरूर आ जाता है,
जब तुम मुझे अपना कहते हो,
मुझे खुद पर गुरुर आ जाता है


एक अजीब सी बेताबी है तेरे बिना,
रह भी लेते है और रहा भी नहीं जाता।


जिसे याद करने से होठो
पर मुस्कान आ जाए,
ऐसा ख्याल हो तुम।


मेरी सांसो पर नाम बस तुम्हारा है…
मैं अगर खुश हूं तो ये एहसान तुम्हारा है।


तोहमतें तो लगती रहीं
रोज नई नई हम पर,
मगर जो सबसे हसीन इल्जाम था
वो तेरा नाम था।


इश्क़ तो बस मुक़द्दर है कोई ख्वाब नहीं,
ये वो मंज़िल है जिस में सब कामयाब नहीं,
जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पर गिन लो,
जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।


तुमसे मिले हैं जबसे,
जी चाहता है,
की अब बिछड़ जाएं सबसे।


कमाल की चीज है ये मोहब्बत
अधूरी हो सकती है,
पर कभी खत्म नही हो सकती


नज़र में शोखियाँ लब पर
मोहब्बत का फ़साना है,
मेरी उम्मीद की ज़द में
अभी सारा ज़माना है,
कई जीते हैं दिल के देश
पर मालूम है मुझको,
सिकंदर हूँ मुझे इक रोज
खाली हाथ जाना है।


यह मेरा इश्क़ था
या फिर दीवानगी की इन्तहा,
कि तेरे ही करीब से गुज़र गए
तेरे ही ख्याल से।


इश्क में धोखा खाने लगे हैं लोग,
दिल की जगह जिस्म को चाहने लगे हैं लोग।


धड़कते हुए दिल का करार हो तुम,
इन सजी महफ़िलो की बहार हो तुम,
तरसती हुई निगाहों का इंतजार हो तुम,
मेरी ज़िन्दगी का पहला प्यार हो तुम।


ऐ आशिक तू सोच तेरा क्या होगा,
क्योंकि हस्र की परवाह मैं नहीं करता,
फनाह होना तो रिवायत है तेरी,
इश्क़ नाम है मेरा मैं नहीं मरता।


मोहब्बत की हद,
न देखना जनाब,
साँसे खत्म हो सकती हैं,
पर मोहब्बत नही।


आशिक से मिलेगा ऐ जाहिद
बंदगी से खुदा नहीं मिलता।


मेरी आँखों में यही हद से ज्यादा बेशुमार है,
तेरा ही इश्क़, तेरा ही दर्द, तेरा ही इंतज़ार है।


दुआओ में मांग हम चुकें है तुझे,
कुबूल होने का इंतज़ार हमे उम्र भर रहेगा


प्यार सभी को जीना सिखा देता है,
वफ़ा के नाम पे मरना सिखा देता है,
प्यार नहीं किया तो मर के देख लो यार,
ज़ालिम हर दर्द सहना सिखा देता है।


मेरी रूह गुलाम हो गई है, तेरे इश्क़ में शायद,
वरना यूँ छटपटाना, मेरी आदत तो ना थी।


मोहब्बत के बाजार में हुस्न बालो की ज़रूरत नही होती,
जिस पर दिल आ जाए वही खास होता है।


सुकून मिल गया है मुझको बदनाम होकर,
आपके हर एक इल्ज़ाम पे यूँ बेजुबान होकर,
लोग पड़ ही लेंगे आपकी आँखों में मोहब्बत,
चाहे कर दो इनकार यूँ ही अनजान हो कर।


इश्क में जिस ने भी
बुरा हाल बना रखा है।
वही कहता है
अजी इश्क में क्या रखा है।


आशिकी करने को दिल नही करता है अब,
लेकिन तेरा चहरा देखते ही दिल फिर आशिक हो जाता है।


क्या कहें अब कुछ कहा नहीं जाता,
मीठा सा दर्द है और सहा नहीं जाता,
मोहब्बत हो गयी है इस कदर आप से,
बिना याद किये आपको अब रहा नहीं जाता।


अपने जैसी कोई तस्वीर बनानी थी मुझे
मेरे अंदर से सभी रंग तुम्हारे निकले


कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,
मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं।


ज़रूरी नही है, इश्क में बाहों के सहारे ही मिले,
किसी को जी भर कर महसूस करना भी मोहब्बत है।


रुके से हम रुके से तुम और जमाना बढ़ गया,
ये तेरा दिल मेरे दिल में जाने कब उतर गया,
अभी तो प्यार की शुरुरात हो रही है सनम,
अभी से ही दिल मेरा तेरा ठिकाना बन गया,
तुम मिले तो यूँ लगा मिल गया मेरा खुदा,
नज़रें मिली तुमसे मेरी और फ़साना बन गया।


उतर भी आओ कभी आसमाँ के ज़ीने से,
तुम्हें ख़ुदा ने हमारे लिये बनाया है।


एक तेरा दीदार मेरे सारे गमो को भुला देता है,
जिंदगी मेरी जिंदगी बना देता है।


भरम रखो मोहब्बत का
वफ़ा की शान बन जाओ,
किसी पर जान दे दो या
किसी की जान बन जाओ,
तुम्हारे नाम से मुझको
पुकारे ये जहाँ वाले,
मैं बन जाऊं अफसाना
और तुम उन्वान बन जाओ।


समझता ही नहीं वो मेरे अलफ़ाज़ की गहराई
मैंने हर लफ्ज़ कह दिया जिसे मोहब्बत कहते है


वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है,
बहुत अज़ीज़ हमें है मगर पराया है।


हर लम्हा तेरी याद का पैगाम दे रहा है,
अब तो तेरा इश्क मेरी जान ले रहा है।


जैसे जुल्फों की लत है चेहरे के करीब तेरे,
कास हम भी आज तेरे इतने करीब होते,
तेरे फूलों से चेहरे को हरदम निहारते हम,
काश ऐसी होती किस्मत हमारी ऐसे नसीब होते।


अपनी मोहब्बत पे इतना भरोसा तो है मुझे,
मेरी वफायें तुझे किसी और का होने न देंगी।


कोई कब तक महज सोचे,
कोई कब तक महज गाये,
इलाही क्या ये मुमकिन है,
कि कुछ ऐसा भी हो जाये,
मेरा महताब उसकी रात के,
आगोश में पिघले,
मैं उसकी नींद में जागूं,
वो मुझमें घुल के सो जाये।


मदहोश मत करो मुझे अपना चहरा दिखा कर,
मोहब्बत अगर चहरे से होती तो खुद दिल नही बनाता।


तेरे नाम को अपने लबो पर सजाया है हमने,
तेरे रूह को अपनी साँसों में बसाया है हमने,
थक जाएगी दुनिया तुम्हे ढूढ़ते ढूढ़ते,
दिल के ऐसे कोने में तुम्हे छुपाया है हमने।


कुछ उम्र की पहली मंजिल थी,
कुछ रस्ते थे अनजान बहुत,
कुछ हम भी पागल थे लेकिन,
कुछ वो भी था नादान बहुत,
कुछ उसने भी न समझाया,
ये प्यार नहीं आसान बहुत,
आखिर हमने भी खेल लिया,
जिस खेल में था नुकसान बहुत।


अगर एहसास है तो करलो मोहब्बत को महसूस,
ये वो ज़ज़्बा है जो लवज़ो में वया नही होता है।


भले कितने ही खफा होते हो तुम हमसे,
मगर पास होते हो तो सब अच्छा लगता है,
बाकी सारी कायनात लगती है झूठी सी,
बस एक आपका प्यार सच्चा लगता है।


आंसू मेरे थम जाएँ तो फिर शौक़ से जाना,
ऐसे में कहा जाओगे बरसात बहुत है।


इसका एहसास किसी को न होने देना,
की तेरी चाहतों से चलती हैं साँसे मेरी।


मंजिल भी तुम हो तलास भी तुम हो,
उम्मीद भी तुम हो आस भी तुम हो,
इश्क भी तुम हो जूनून भी तुम ही हो,
एहसास तुम हो प्यास भी तुम ही हो।


वो कह के चले इतनी मुलाकात बहुत है,
मैंने कहा रुक जाओ अभी रात बहुत है।


मेरी हर अदा का आइना तुझसे से है,
मेरी हर मंजिल का रास्ता तुझसे है,
कभी दूर न होना मेरी जिंदगी से,
मेरी हर ख़ुशी का वास्ता तुझसे है।


ये कैसा सिलसिला है तेरे और मेरे दरमियाँ,
फासले बहुत हैं मगर मोहब्बत कम नही होती।


मैने कब तुझसे ज़माने की खुशी माँगी है,
एक हल्की सी मेरे लब ने हँसी माँगी है,
सामने तुझको बिठाकर तेरा दीदार करूँ,
अपनी आँखों में बसा कर कोई इक़रार करूँ,
जी में आता हैं कि जी भर के तुझे प्यार करूँ।


ख्वाबो में आकर दिल में उतर जाता हो,
खुशबू बन कर सांसों में बिखर जाते हो,
क्यों करते हो इश्क का जादू,
अब तो हर तरफ तुम ही तुम नज़र आते हो।


असल मोहब्बत तो वो पहली ही मोहब्बत थी,
उसके बाद हर शख्स में सिर्फ उसी को ढूढा है।


क्यों मेरे चैन ओ सुकून के दुश्मन बन गए,
दुनिया बड़ी हसीं है किसी और से दिल लगा लेते।


काश तुम पूंछो की हम तुम्हारे क्या लगते हैं,
और हम तुम्हे गले लगा कर कहे सब कुछ।


हो वफ़ा जिसमे वो मासूक कहाँ से लाऊं,
है ये मुश्किल कि हसीन हो सिताम्जाद न हो।


हमे फिर सुहाना नज़ारा मिला है,
क्योंकि जिंदगी में साथ तुम्हारा मिला है,
अब जिंदगी में कोई ख्वाइश नही रही,
क्योंकि हमे अब तुम्हारी बाहों का सहारा मिला है।


करूँगा क्या जो हो गया नाकाम मोहब्बत में,
मुझे तो कोई और काम भी नहीं आता इसके सिवा।


माना की बदल गये अंदाज़े मोहब्बत वक्त के साथ,
लेकिन दिल चुराने का ज़रिया आज भी आँखे ही हैं।


मसरूफियत में आती है बेहद तुम्हारी याद
फुर्सत में तेरी याद से फुरसत नहीं मिलती


किसकी मजाल थी जो हमको खरीद सकता था,
हम खुद ही बिक गए हैं खरीददार देख कर।


नजर में शोखियाँ लव पर
मोहब्बत का फ़साना है,
मेरी उम्मीद की ज़द में
अभी सारा ज़माना है,
कई जीते हैं दिल के देश पर
मालूम है मुझको,
सिकंदर हूँ मुझे एक रोज
खाली हाथ जाना है।


वो पूँछतें हैं हमसे की क्या हुआ,
अब हम उन्हें कैसे बताएं,
उन्ही से इश्क हुआ।


बेवफा से वफा कर के गुजरी है जिंदगी
मैं बरस रहा हूँ तेज बारिश की तरह


वजह पूछोगे तो सारी उम्र गुजर जाएगी,
कहा न अच्छे लगते हो तो बस लगते हो।


अगर मैं जानता हूँ कि प्यार क्या है,
तो इसकी वज़ह सिर्फ तुम हो।


ये न जाने थे कि
उस महफ़िल में दिल रह जाएगा,
हम ये समझे थे कि
चले आएँगे दम भर देख कर।


बन्द आँखों में चले आते हो मेरी अपनों की तरह,
और आंख खुलतें ही चले जाते हो सपनो की तरह।


नहीं लिखते हथेलियों पर अब तुम्हारा नाम
कारोबार में सबसे हाथ मिलाना पडता है


यूँ दूर रहकर दूरियों को बड़ाया नहीं करते,
अपने दीवाने को इस तरह सताया नहीं करते,
हर वक्त बस जिसे तुम्हारा ही ख्याल हो,
उसे अपनी आवाज के लिए तड़पाया नहीं करते।


चाहु तो नाम लिख दू उसका
अपनी हर शायरी के साथ
लेकिन फिर सोचता हूँ की
बहुत भोली है मेरी जान ,
कहीं बदनाम ना हो जाए


सुकून मिलता है जब उनसे बात होती है,
हजार रातों में वो एक रात होती है,
निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ,
मेरे लिए वही पल पूरी कायनात होती है।


अपनी हाथो की उंगलियों को
ज़रा सा दिल पर क्या रखा,
तेरी यादो की धड़कन धड़कने लगी।


तुम्हारी याद में जीने की आरजू है अभी
कुछ अपना हाल सभालू अगर इजाजत हो


मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता,
कहीं तू भर भी सकता है, कहीं तू मुझसे कम होगा।


मोहब्बत एक अहसासों की, पावन सी कहानी है,
कभी कबिरा दीवाना था, कभी मीरा दीवानी है,
यहाँ सब लोग कहते हैं, मेरी आंखों में आँसू हैं,
जो तू समझे तो मोती है, जो ना समझे तो पानी है।


मोहब्बत का कोई रंग नही फिर भी वो रंगीन है,
मोहब्बत का कोई चहरा नही फिर भी वो हसीन है।


दिल मैं तुम्हारी अपनी कमी छोड जायेंगे
आँखों में इंतजार की लकीर छोड जायेंगे


नजरें मिल जाएँ तो प्यार्हो जाता है,
पलकें उठ जाएँ तो इज़हार हो जाता है,
न जाने क्या कशिश होती है चाहत मैं के कोई,
अनजान भी हमारी ज़िन्दगी का हकदार हो जाता है।


छुप-छुप के देखा है उन्हें उनके सामने अक्सर,
इजहार-ए-इश्क़ भी होगा जरा बात तो होने दो।


हमको चाहते होंगे और भी बहुत लोग,
लेकिन मुझे तो सिर्फ मोहब्बत अपनी मोहब्बत से है।


तुम्हारी याद मेरे साथ साथ चलती रहे
तेरे ख्याल के रंगों के दायरों में रहे


मैं अलफ़ाज़ हूँ तेरी हर बात समझता हूँ,
मैं एहसास हूँ तेरे जज्बात समझता हूँ,
कब पूछा मैंने के क्यों दूर हो मुझसे,
मैं दिल रखता हूँ तेरे हालात समझता हूँ।


हमारी आँख से गिरता जो तेरे प्यार का मोती,
उसे होठों से चुन लेती अगर तुम सामने होती।


इनकार भी करते हैं इकरार के लिए,
नफरत भी करते हैं प्यार के लिए,
उल्टी ही चाल चलते है प्यार करने बाले,
आँखे बन्द करते हैं दीदार के लिए।


कोई मिले इस तरह के फिर जुदा न हो,
वो समझे मेरा मिजाज और कभी खफा न हो,
अपने एहसास से बांट ले सारी तन्हाई मेरी,
इतना प्यार दे जो पहले किसी ने किसी को दिया न हो।


ना हारा है इश्क और न दुनिया थकी है,
दिया भी जल रहा है हवा भी चल रही है।


कुछ नशा तो आपकी बात है,
कुछ नशा तो ये धीमी बरसात का है,
आप यूँ ही हमे शराबी न कहिए,
क्योंकि कुछ नशा तो आपकी मुलाकात का है।


बख्सा है हमको हुस्न तुम्हारी निगाह ने
तुम लेके आये हमे हद इ गुरूर तक


तुझसे रूबरू हो के बातें करूँ,
निगाहें मिला के वफ़ा के बादे करूँ,
थाम कर तेरा हाथ बैठ जाऊं तेरे सामने,
तेरी हसीन सूरत के नज़ारे करूँ।


माना कि तू नहीं है मेरे सामने
पर तू मेरे दिल में बसता हैं
मेरे हर दुख में मेरे साथ होता है
और हर सुख में मेरे साथ हसता है


हर बात पे रंजिशें हर बात पे हिसाब,
गोया मैंने इश्क नहीं, नौकरी कर ली।


दिल के रिश्ते का कोई नाम नही होता,
हर रास्ते का कोई मुकाम नही होता,
अगर निभाने की चाहत हो दोनों तरफ,
कसम से कोई रिश्ता नाकाम नही होता।


तूने छुआ मेरी रूह को, कुछ इस तरह
कि सदियों तक वो तेरी ग़ुलाम बन गई


मुझको फिर वोही सुहाना नजारा मिल गया,
इन आँखों को दीदार तुम्हारा मिल गया,
अब किसी और की तमन्ना क्यों मैं करूँ,
जब मुझे तेरी बाँहों का सहारा मिल गया।


मेरी हर सांस में तू है
मेरी हर ख़ुशी में तू है
तेरे बिन ज़िन्दगी कुछ नrहीं
क्योकि मेरी पूरी ज़िन्दगी ही तू है


मोहब्बत नहीं थी तो एक बार समझाया तो होता,
नादान दिल तेरी खामोशी को इश्क़ समझ बैठा।


दिल का एहसास जानना है तो प्यार करके देखो,
अपनी आँखों में किसी को उतार कर तो देखो,
चोट उन्हें लगेगी दर्द तुम्हे होगा,
जरा अपना दिल एक बार हार कर तो देखो।


चेहरे पर मरने वाले हज़ार मिल जायेंगे,
कुछ लोग हर जरुरत पूरी कर जायेंगे,
ख्वाइश है उसकी जो दिल से समझे हमें,
हम तो ज़िन्दगी भी उसके नाम कर जायेंगे।


आज भी कितना नादान है दिल समझता ही नहीं,
बाद बरसों के उन्हें देखा तो दुआएँ माँग बैठा।


कल क्या खूब इश्क़ से इन्तेकाम लिया मैंने,
कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया।


एक अच्छा फ्यूचर देने वाली तो सबको मिल जाती है लेकिन सच्चा प्यार करने वाली किस्मत से मिलती है.


नहीं है होंसला मुझमे तुम्हे खोने का पर सुन लो,
ये दुनिया मुझको खो देगी अगर तुम खो गई मुझसे।


ज़ब खामोश आँखों से बात होती है,
ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
तुम्हारे ही खयालो में खोये रहते है,
पता नहीं कब दिन कब रात होती है.


ज़माने भर की निगाहों में
जो खुदा सा लगे,
वो अजनबी है मगर
मुझ को आशना सा लगे,
न जाने कब मेरी
दुनिया में मुस्कुराएगा,
वो शख्स जो ख्वाबों
में भी खफा सा लगे।


मेरे दिल में तेरे लिए प्यार आज भी है,
माना की तुझे मेरे प्यार पर शक आज भी है,
नाव में बैठ कर धोये थे हाथ तालाब के पानी में,
उस तालाब में तेरे हाथो की मेहँदी की खुशबू आज भी है।


मोहब्बत में गुस्सा और शक़ वही करता है
जिसमें मोहब्बत कूट-कूट के भरी होती है


मैं तमाम दिन का थका हुआ,
तू तमाम शब का जागा हुआ,
जरा ठहर जा इसी मोड़ पर,
तेरे साथ शाम गुजार लूँ।


हम अपनी रूह तेरे जिस्म में ही छोड़ आये फ़राज़,
तुझसे गले लगाना तो बस एक बहाना था।


मैंने कहा जान है तू मेरी,
मैंने कहा ज़िन्दगी है तू मेरी,
कभी मुझसे जुदा होने की सोचना भी मत,
क्योंकि पहचान है तू मेरी।


तेरी यादें, तेरी बातें, बस तेरे ही फसाने है, हाँ कबूल करते है, कि हम तेरे दीवाने है..


रात हो दिन हो गफलत हो बेदारी हो,
उसको देखा तो नहीं उसको सोचा बहुत है।


कोई मुन्तजिर है उसका कितनी शिद्दत से फ़राज़,
वो जानता है पर अनजान बना रहता है।


मुझे तो न कोई आसमान चाहिये,
मुझे तो न कोई जहाँ चाहिये,
तू तो सितारों की एक महफ़िल है,
बस उस पूरी महफ़िल में से बस एक तू चाहिए।


तुम मेरी वो स्माइल हो,
जिसे देखकर,
सब घर वाले मुझ पर शक करते हैं…..!


खाक उड़ती है रात भर मुझ में,
कौन फिरता है दर-बा-दर मुझ में,
मुझ को मुझ में जगह नहीं मिलती,
कोई मौजूद है इस कदर मुझ में।


तेरा ज़िन्दगी में आना इत्तफाक हो तो हो,
पर तुझे यूं ज़िन्दगी बनाना इत्तफाक नहीं


मोहब्बत नापने का कोई पैमाना नहीं होता,
कहीं तू बढ़ भी सकता है, कहीं तू मुझ से कम होगा।


अपनी जिंदगी के बस यही उसूल हैं,
अगर तू कह तो काटें भी कुबूल हैं,
हंस कर चल दूँ कांच के टुकड़ो पर भी,
अगर तू कह ये मेरे बिछाये हुए फूल हैं।


भूल न जाऊं मगना उसे हर नमाज के बाद,
यही सोच कर हमने नाम उसका दुआ रखा है।


अभी तो साथ चलना है, समंदर की मुसाफत में,
किनारे पर ही देखेंगे, किनारा कौन करता है।


आग सूरज में होती है,
पर जलना ज़मी को पड़ता है,
मोहब्बत निगाहों से होती है,
पर तड़पाना दिल को पड़ता है।


प्यार में इसलिए भी धोखा खाने लगे हैं लोग,
दिल की जगह जिस्म को चाहने लगे हैं लोग।


जाने उस शख्स को कैसा ये हुनर आता है,
रात होती है तो आँखों में उतर आता है,
मैं उस के ख्यालों से बच के कहाँ जाऊं,
वो मेरी सोच के हर रस्ते पे नजर आता है।


इश्क के समंदर में सब डूबना चाहते हैं,
इश्क में लोग कुछ खोते हैं तो कुछ पाते हैं,
इश्क तो एक गुलाब है जो सब तोडना चाहते हैं,
लेकिन हम तो ये गुलाब आपको देना चाहते हसीन।


हमने देखी है इन आँखों की महकती खुसबू,
हाथ से छू के इसे इश्क का इल्ज़ाम न दो,
एक एहसास है इसे रूह से महसूस करो,
प्यार को प्यार ही रहने दो इसे कोई दूसरा नाम न दो।


चलते रहने दो ये सिलसिले,
ये मोहब्बतों के काफिले,
बहुत दूर हम निकल जाएँ,
कि लौट के फिर न आ सकें।


बस एक छोटी सी हां कर दो,
और बस इस तरह मेरे नाम सारा जहाँ कर दो,
देते हैं हम ये गुलाब आपको,
बस अब ये अपनी मोहब्बत हमारे नाम कर दो।


ऐसा क्या लिखूं के तेरे दिल को तसल्ली हो जाये,
क्या ये बताना काफी नहीं कि मेरी जिंदगी हो तुम।


कुछ इस अदा से सुनाना हल इ दिल हमारा उसे !
वो खुद हे कह दे किसी को भूल जाना बुरी बात है !!


कच्ची दीवार हूँ ठोकर ना लगाना मुझे,
अपनी नज़रों में बसा कर ना गिराना मुझे,
तुमको आँखों में तसव्वुर की तरह रखता हूँ,
दिल में धड़कन की तरह तुम भी बसाना मुझे।


वो दिल ही क्या जो वफ़ा न करे,
तुझे भूल कर जिए कभी खुदा न करे,
रहेगी तेरी मोहब्बत जिंदगी बन कर,
वो बात और है जिंदगी वफ़ा न करे।


संगमरमर के महल में तेरी तस्वीर सजाऊंगा,
मेरे इस दिल में ऐ सनम तेरे ख्वाब सजाऊंगा,
आजमा के देख ले तेरे दिल में बस जाऊंगा,
प्यार का प्यासा हूँ तेरे आगोष में सिमट जाऊंगा।


तुम नफरत करो या मोहब्बत,
दोनों हमारे हक में बेहतर है।
नफरत करोगे तो हम तुम्हारे दिमाग में,
मोहब्बत करोगे तो दिल में बस जायेंगे।


हम चाह कर भी तुम से ज्यादा देर तक नाराज नही रह सकते,
क्योंकि तुम्हारी प्यारी सी मुस्कान में मेरी जान बसती है।


तन्हाइयों में मुस्कुराना इश्क़ है,
एक बात को सब से छुपाना इश्क़ है,
यूँ तो नींद नहीं आती हमें रात भर,
मगर सोते-सोते जागना और,
जागते-जागते सोना ही इश्क़ है।


सूखे पत्तो से प्यार कर लेंगे हम,
खुद पर फिर से ऐतबार कर लेंगे हम,
सिर्फ एक बार कह दो तुम मेरे हो सनम,
कसम से तेरा जिंदगी भर इंतज़ार कर लेंगे हम।


तुमको पाने की तमन्ना नहीं
फिर भी खोने का डर है,
कितनी सिद्दत से देखो
मैंने तुमसे मोहब्बत की है।


एक खत लिखा है तुम्हें,
पढ़कर जवाब जरूर देना।
तुमने कहा था तुम्हें भी मोहब्बत है,
मेरी मोहब्बत का इस बार तुम,
इम्तेहान जरूर देना।


मैं ये नहीं कहती की
तुम्हारे लिए कोई भी दुआ ना मांगे ,
मैं तो बस यही चाहती हूँ की
कोई दुआ में तुम्हे ना मांग ले !


खुदा की रहमत में अर्जियाँ नहीं चलतीं,
दिलों के खेल में खुद-गर्जियाँ नहीं चलतीं।
चल ही पड़े हैं तो ये जान लीजिए हुजुर,
इश्क़ की राह में मन-मर्जियाँ नहीं चलतीं।


मोहब्बत करना है, फिर से करना है,
बार बार करना, हजार बार करना है,
लेकिन सिर्फ तुम से ही करना है।


हमसे न कट सकेगा अंधरों का ये सफ़र,
अब शाम हो रही है मेरा हाथ थाम लो।


वो मौत भी बड़ी हसीन होगी,
जो तेरी बाहों में आनी होगी।
वादा रहा तुझसे,
पहले हम मर जाएंगे, क्योंकि
तेरे लिए जन्नत भी सजानी होगी।


कभी संभले तो कभी बिखर गए हम,
अब तो खुद में ही सिमट गए हम,
यूँ तो जमाना खरीद नहीं सकता हमें,
मगर प्यार के दो लफ़्ज़ों से बिक गए हम।


नजरो से क्यों जलाती हो आग चाहत की,
जलाकर क्यों बुझाती हो आग चाहत की,
सर्द रातों में भी कराती हो तपन का एहसास,
हवा देकर क्यों बढ़ाती हो आग चाहत की।


तरीका मेरे क़त्ल का तुम एक यह भी ईजाद करो,
मर जाऊं मैं हिचकियों से मुझे इतना याद करो।


तेरे अश्कों पे शर्मिंदा हूं।
अब भी उम्मीद पे जिंदा हूं।
निकलूंगा ना कभी तेरी कैद से,
मैं भी बड़ा जिद्दी परिंदा हूं।


मोहब्बत के बाद मोहब्बत करना तो मुमकिन है,
लेकिन किसी को टूट कर चाहना,
वो ज़िन्दगी में एक बार ही होता है


जमाना अगर हम से रूठ भी जाये तो,
इस बात का हमें गम न कोई होगा,
मगर आप जो हमसे खफा हो गए तो,
हम पर इस से बड़ा सितम न कोई होगा।


अगर कभी उदास हो जाओ तो मेरे हँसी मांग लेना,
अगर कभी कोई गम आपके पास आये तो मेरी ख़ुशी मांग लेना,
खुदा आपको लम्बी उम्र दे जीने के लिए,
अगर एक पल भी कम पड़े तो मेरी
मेरी जिंदगी मांग लेना।


बदलना नहीं आता हमें मौसम की तरह,
हर एक रुत में तेरा इंतज़ार करते हैं,
न तुम समझ सकोगे जिसे क़यामत तक,
कसम तुम्हारी तुम्हे इतना प्यार करते हैं।


इस कदर बेताबी ना बढ़ा, यह बेरूखी है सनम,
मुझे तू इस जहां से ले जा, इस प्यार का सहारा बन।


चाहत है या दिल्लगी या यूँ ही मन भरमाया है,
याद करोगे तुम भी कभी किससे दिल लगाया है।

Leave a Comment