63 Ghalib Shayari in Hindi

cat_default

00 हुआ जब गम से यूँ बेहिश तो गम क्या सर के कटने का,ना होता गर जुदा तन से तो जहानु पर धरा होता! मेरे बारे में कोई राय मतबनाना गालिबमेरा वक़्त भी बदलेगातेरी राय भी ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में। फ़िक्र-ए-दुनिया में …

Read more