83 Romantic Shayari

cat_default

ना नमाज़ आती है मुझको ना वजू आता है,सज़दा कर लेता हु मैं जब सामने तू आती है। खुद-ब-खुद शामिल हो गए तुम मेरी साँसों में,हम सोच के करते तो फिर मोहब्बत न करते। ज़िन्दगी जब भी किसी साये की तलब करती हैमेरे होंटों पर तेरा नाम मचल जाता है सकून मिलता है जब उनसे …

Read more